नवरात्रि के अंतिम दिवस महानवमी पर रतनपुर महामाया देवी का किया गया राजषी श्रृंगार, कन्या पूजन और हवन के साथ शारदीय नवरात्र का समापन

Spread the love

यूनुस मेमन

महामाया मंदिर रतनपुर में नवमी तिथि के अवसर पर माँ महा माया देवी का सवा 3 किलो सोने के आभूषणों के साथ राजसी श्रृंगार किया गया जिसमे माँ महामाया देवी का सिद्धिदात्री स्वरूप में स्वर्ण मुकुट,रानी हार,कुंडल, करधन, पायल सोला सिंगार के साथ कुल सवा तीन किलो सोने के आभूषणों से महामाया देवी का राजसी श्रृंगार सुबह पांच बजे किया गया। सिद्धिदात्री स्वरूप में माँ के इस दिव्य रूप को देखने गुरुवार को सुबह से ही श्रद्धालुओं का महामाया मंदिर रतनपुर में तांता लगा हुआ है। इस अवसर पर माँ महामाया को सुबह 11 बजे 56 प्रकार के नैवैद्य भी अर्पित किये गए तथा सामूहिक पुष्पांजलि अर्पित कर विश्व कल्याण की कामना की गई।

इसी के साथ मंदिर में सहस्त्र धारा कन्या भोज व ब्रम्ह भोज के साथ शारदीय नवरात्रि पर्व का समापन हुआ।इससे पहले 07 अक्टूबर 2021से शुरू हुए शारदीय नवरात्रि के दौरान अष्टमी तिथि पर शुक्रवार 13 अक्टूबर को देवी महामाया की विशेष पूजा के बाद हवन कर पूर्णाहुति दी गई।सिद्धिदात्री स्वरूप में माँ के इस दिव्य रूप को देखने गुरुवार को सुबह से ही श्रद्धालुओं का महामाया मंदिर रतनपुर में तांता लगा हुआ है। । इसी के साथ मंदिर में सहस्त्र धारा कन्या भोज व ब्रम्ह भोज के साथ शारदीय नवरात्रि पर्व का समापन हुआ।

error: Content is protected !!