दुर्गा पंडाल के पास शराब पी रहे मासूमों को मना करना पड़ा भारी,नाबालिग नादानों ने चाकू से वार कर जान लेने की कोशिश की

Spread the love

मो नासीर

इन दिनों शहर में दुर्गा पूजा का आयोजन किया जा रहा है। हेमू नगर दुर्गा पंडाल के पास मनोज कुमार यादव पंडाल में बिजली का काम कर रहा था। उसी दौरान एक मासूम बालक अपने दो साथियों के साथ दुर्गा पंडाल के पास ही बैठकर शराब पी रहा था। जब मनोज यादव ने उन्हें पंडाल से दूर जाकर यह सब करने को कहा तो उन मासूमों ने मनोज को गाली गलौज देनी शुरू कर दी ।इतना ही नहीं उन नादानों ने उसे जान से मारने की धमकी देते हुए अपने पास रखें एक बटन दार चाकू से वार कर मनोज यादव के कमर के पास हमला कर दिया, जिससे खून निकलने लगा। यह चाकूबाजी की खबर पाकर तुरंत थाना प्रभारी सुखनंदन पटेल अपराधियों की तलाश करने निकले लेकिन यह क्या ? जब वे पहुंचे तो पाया कि यह तो मासूम बच्चे हैं, जिनमें भले ही लाख बुराई छुपी हुई हो लेकिन भारतीय संविधान की उदारता से उनका गुनाह इसलिए गुनाह नहीं है क्योंकि उनकी उम्र 18 साल नहीं हुई है ।


जी हां शराब पीने से लेकर मारपीट और किसी की जान लेने की कोशिश करने वाले इन खतरनाक और वहशी दरिंदों के खिलाफ सिर्फ इसलिए सख्त कानूनी कार्रवाई संभव नहीं है क्योंकि वे नाबालिग है। न जाने ऐसे ही कितनी मजबूरियों ने पुलिस के हाथ बांध रखे हैं। इस बार भी मजबूरी में पुलिस को उसे हिरासत में लेकर किशोर न्यायालय में पेश करना पड़ा। जाहिर है वहां से कुछ ही महीनों में यह छूट कर फिर से इसी तरह के अपराध को अंजाम देंगे। इस देश का कानून भी महान है जहां निर्भया के बलात्कार से लेकर हत्या तक का जुर्म इसी वर्ग द्वारा किया जाता है लेकिन इतने सालों में भी नाबालिक की परिभाषा बदलने की कोशिश अब तक पूरी नहीं हुई है।

error: Content is protected !!