क्रिस्टियानो रोनाल्डो की एक प्रतिक्रिया से कोको कोला का शेयर हुआ धड़ाम , 75 अरब से अधिक का नुकसान

Spread the love

बीते सोमवार को एक जबरदस्त घटना घटी. फुटबॉल के सुपरस्टार क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने यूरो चैम्पियनशिप के एक मैच के बाद हुई प्रेस कांफ्रेंस में अपने सामने रखीं कोकाकोला की दोनों बोतलें एक तरफ हटा दीं. उसके बाद उन्होंने वहीं रखी पानी की बोतल को उठाकर पत्रकारों को दिखाते हुए कहा – “आगुवा!” यानी पानी! दस सेकेंडों में उन्होंने जता दिया कि सॉफ्ट ड्रिंक्स को लेकर उनका क्या नजरिया है.
रोनाल्डो की इस एक भंगिमा ने यह किया कि कोकाकोला के शेयर गिरना शुरू हो गए. इस घटना का ऐसा जबरदस्त प्रभाव पड़ा कि कुछ ही घंटों के भीतर कम्पनी को चार बिलियन डॉलर यानी करीब 75 अरब(4billion) रुपयों का नुकसान हो गया. यह गिरावट अब भी जारी है.
एक इंटरव्यू में उनसे इस बाबत पूछा गया तो उन्होंने कहा, “चूंकि मैं खुद सॉफ्ट ड्रिंक नहीं पीता, मैं नहीं चाहूंगा कि कोई दूसरा बच्चा मेरी वजह से ऐसा करे. मैं कोई चिकित्सक नहीं हूं, लेकिन मुझे पता है कि सॉफ्ट ड्रिंक्स स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाते हैं और मैंने अपने मैनेजर को इस बारे में साफ-साफ कह रखा है कि मैं किसी भी ऐसे प्रॉडक्ट के साथ नहीं जुड़ूंगा, चाहे वह सॉफ्ट ड्रिंक हो या सिगरेट या शराब.”
एक तरफ दुनिया के सबसे महंगे खिलाड़ियों में शुमार क्रिस्टियानो रोनाल्डो के यह विचार उनकी मानवीयता को दर्शाते हैं ,की युवाओं एवं अन्य लोगों को सॉफ्ट ड्रिंक के दुष्प्रभाव से बचाने की चिंता स्पष्ट नजर आती है वहीं दूसरी ओर हमारे देश के ख्याति लब्ध फिल्म स्टार, क्रिकेटर, एवं अन्य खेलों के सुपरस्टार आदि, पैसों की अंधाधुन दौड़ में इस तथ्य को नकार देते हैं की जनमानस के स्वास्थ्यगत हितों को प्रभावित करने वाले ऐसे सॉफ्ट ड्रिंक्स, कोका कोला, पेप्सी, या थम्सअप आदि पदार्थों एवं सिगरेट शराब जैसे सामाजिक एवं स्वास्थ्य गत हानिकारक पदार्थों के उपयोग के लिए विज्ञापनों के जरिए अपना घर भरते हैं, इसमें उनकी स्वार्थ में डूबी पैसों की चाहत स्पष्ट नजर आती है वह अपने सामाजिक उत्तर दायित्व को सिरे से नकार देते हैं, ऐसे कठिन समय में क्रिस्टीयानो रोनाल्डो का यह कदम अत्यंत साहसिक एवं प्रशंसनीय माना जाना चाहिए इसकी जितनी भी प्रशंसा की जाए कम है।

error: Content is protected !!